ALL देश दुनिया खेल मनोरंजन व्यापार/मनी धर्म/ राशि जीवन संवाद तकनीक करियर लाइव टीवी
Ind vs Sa: Rohit's blast in opening debut, smack century
October 2, 2019 • Damodar Singh

India vs South Africa 1st Test Match Rohit Sharma: भारतीय टीम के दमदार खिलाड़ी रोहित शर्मा ने भारतीय सरजमीं पर टेस्ट मैचों में एवरेज के मामले में सभी को पीछे छोड़ दिया है। साउथ अफ्रीका के खिलाफ विशाखापत्तनम में खेले जा रहे टेस्ट मैच में रोहित शर्मा ने शतकीय पारी खेलने के साथ ही भारत के तमाम दिग्गजों को पीछे छोड़ दिया। 

रोहित शर्मा ने ओपनिंग करते हुए टेस्ट में अपना पहला शतक ठोक दिया है. रोहित ने 154 गेंदों में 10 चौके और 4 छक्कों की मदद से सेंचुरी ठोकी है. रोहित के टेस्ट करियर का यह चौथा शतक है. रोहित ने 54वें ओवर की आखिरी गेंद पर सिंगल लेकर शतक पूरा किया. शतक के लिए उन्होंने 154 गेंदों का सामना किया. रोहित के टेस्ट करियर पर नजर डाली जाए तो उन्होंने 2013 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ शतक लगाकर शानदार आगाज किया था, लेकिन उसके बाद उन्हें अपना स्थान बनाए रखने के लिए संघर्ष करना पड़ा.

पहली बार टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करने उतरे दाएं हाथ के बल्लेबाज रोहित शर्मा भारत के पहले ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने कम से कम 10 टेस्ट मैच खेलने के बाद भारत की धरती पर सबसे ज्यादा के रन औसत से रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं। इस मामले में हिटमैन रोहित ने विजय हजारे, विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा और मोहम्मद अजहरुद्दीन जैसे खिलाड़ियों को पीछे छोड़ दिया है। 

भारत में रोहित का रिकॉर्ड शानदार

टेस्ट क्रिकेट में भारतीय टीम से अंदर-बाहर होने वाले बल्लेबाज रोहित शर्मा का भारत में रिकॉर्ड काफी शानदार है। रोहित ने भारतीय सरजमीं पर 91.22 के औसत से टेस्ट क्रिकेट में रन बनाए हैं। इस मामले में दूसरे नंबर पर भारत के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज विजय हजारे हैं, जिन्होंने 69.56 के औसत से टेस्ट क्रिकेट में रन बनाए हैं। वहीं, विराट कोहली 64.68 रन औसत के साथ तीसरे पायदान पर हैं।

बता दें कि इससे पहले प्रैक्टिस मैच में रोहित शर्मा ओपनिंग करने उतरे तो वह शून्य पर आउट हो गए थे. लेकिन साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में रोहित शर्मा ने जमकर रन लूटे. शुरुआत में रोहित थोड़ा संभलकर खेले, लेकिन बाद में उन्होंने चौके-छक्के बरसाए. रोहित ने मैच के दूसरे ओवर की दूसरी गेंद पर कैगिसो रबाडा को बैकवर्ड पॉइंट पर चौका लगाते हुए खाता खोला. रोहित ने 29वें ओवर में चौका लगाकर अर्धशतक पूरा किया. यह उनके टेस्ट करियर का 11वां अर्धशतक है, जबकि ओपनर के तौर पर पहला है.


ओपनर के तौर पर पहली ही पारी में शतक बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज

187 शिखर धवन बनाम ऑस्ट्रेलिया, मोहाली 2012/13

110 केएल राहुल बनाम ऑस्ट्रेलिया, सिडनी 2014/15

134 पृथ्वी शॉ बनाम वेस्टइंडीज, राजकोट 2018/19

100*रोहित शर्मा बनाम साउथ अफ्रीका, विशाखापत्तनम 2019/20

भारत ने जीता टॉस

भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और दक्षिण अफ्रीका को पहले गेंदबाजी दी. भारत ने मैच से एक दिन पहले ही अपनी प्लेइंग इलेवन का ऐलान कर दिया था. रोहित शर्मा को टेस्ट में पहली बार सलामी बल्लेबाज के तौर पर चुना गया है. कोहली ने इस मैच के लिए युवा विकेटकीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत को बाहर कर अनुभवी विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा को मौका दिया है. चोट से वापसी करने के बाद यह साहा की पहली सीरीज होगी.


मेजबान होने के नाते भारत को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. रोहित अब तक टेस्ट में मध्य क्रम में ही खेलते आए हैं, लेकिन लोकेश राहुल के खराब फॉर्म के कारण उन्हें टेस्ट में पारी की शुरुआत करने का मौका मिला है. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अभ्यास मैच में रोहित सिर्फ दो गेंदों पर बिना कोई रन बनाए आउट हो गए थे. इस शून्य के बाद रोहित के ऊपर अपने आप को साबित करने का दबाव बढ़ गया है.

विंडीज में वह अंतिम-11 में नहीं चुने गए थे. चोट के कारण वह बाहर होने से पहले बल्ले से भी अच्छे फॉर्म में थे और विकेटकीपिंग भी शानदार तरीके से कर रहे थे. साहा के लिए उसी फॉर्म को जारी रखना चुनौती होगा. गेंदबाजी में भारत के लिए जसप्रीत बुमराह का न होना चिंता का विषय है. वह चोट के कारण बाहर है. उनकी अनुपस्थिति में ईशांत शर्मा और मोहम्मद शमी की जिम्मेदारी बढ़ गई है. कोहली ने रवींद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन की जोड़ी को अंतिम-11 में मौका दिया है. इन दोनों के अलावा विहारी भी ऑफ स्पिनर हैं.

मेहमान टीम की बल्लेबाजी कप्तान फाफ डु प्लेसिस और क्विंटन डि कॉक पर काफी हद तक निर्भर है. डीन एल्गर, एडिन मार्करम और नए उपकप्तान टेम्बा बावूमा का योगदान भी अहम होगा. गेंदबाजी में उसके लिए कैगिसो रबाडा सबसे अहम हैं. रबाडा को भारत में खेलने का भी अच्छा अनुभव है. वर्नोन फिलेंडर के लिए भारत की परिस्थतियों में गेंदबाजी करना आसान नहीं होगा. स्पिनर केशव महाराज से मेहमान टीम को काफी उम्मीदें होंगी.

सीरीज जीतने से बनेगा ये बड़ा रिकॉर्ड

दूसरी तरफ, भारतीय टीम घरेलू सरजमीं पर रिकॉर्ड लगातार 11वीं टेस्ट सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगी. यह सीरीज तीन टेस्ट मैचों की है. टीम इंडिया अपनी धरती पर फरवरी 2013 से लगातार टेस्ट सीरीज जीत रही है. फिलहाल भारत और ऑस्ट्रेलिया लगातार 10-10 टेस्ट घरेलू सीरीज जीतकर बराबरी पर हैं. ऑस्ट्रेलिया ने दो बार (नवंबर 1994 से नवंबर 2000 और जुलाई 2004 से नवंबर 2008) अपनी धरती पर लगातार 10-10 टेस्ट सीरीज जीती है.

नजरें रोहित पर- कितना सफल हो पाएंगे?

टेस्ट सीरीज से पहले रोहित को सलामी बल्लेबाज के रूप में उतारने के प्रयोग से वांछित नतीजे नहीं मिले और सीरीज से पहले दक्षिण अफ्रीका के एकमात्र अभ्यास मैच में पारी का आगाज करते हुए वह खाता खोले बिना ही पवेलियन लौट गए.

रोहित के बेहतरीन फॉर्म को देखते हुए युवराज सिंह सहित कई पूर्व क्रिकेटरों का मानना है कि मुंबई के इस बल्लेबाज को सभी प्रारूपों में खेलना चाहिए और उन्हें टेस्ट सलामी बल्लेबाज के रूप में अधिक मौके मिलने चाहिए.

रोहित-मयंक बना पाएंगे स्थिर जोड़ी ?

वेस्टइंडीज दौरे पर रोहित को दो टेस्ट की सीरीज के दौरान मध्यक्रम में जगह नहीं मिली, लेकिन खराब फॉर्म के कारण लोकेश राहुल को बाहर किए जाने के कारण भारत को उम्मीद होगी कि मयंक अग्रवाल के साथ मिलकर रोहित शीर्ष पर स्थिर जोड़ी बनाएंगे.

पहले टेस्ट से पूर्व नेट सत्र के दौरान सभी की नजरें रोहित पर टिकी थीं, जो मौके का फायदा उठाने और अपने टेस्ट रिकॉर्ड में सुधार के लिए प्रतिबद्ध दिखे. रोहित ने अब तक 27 टेस्ट में 39.62 की औसत से 1585 रन बनाए हैं, जबकि सीमित ओवरों के क्रिकेट में उनके नाम पर 10,000 से अधिक रन दर्ज हैं.

फिट होने के बाद ऋद्धिमान साहा ऋषभ पंत की जगह लेने में कामयाब रहे. भारतीय टीम इस मैच में दो तेज गेंदबाजों और इतने ही स्पिनरों के साथ उतरगी. विकेट से टर्न मिलता है, तो हनुमा विहारी तीसरे स्पिनर की भूमिका निभाएंगे. जसप्रीत बुमराह का बाहर होना भारत के लिए बड़ा झटका है, लेकिन ईशांत शर्मा और मोहम्मद शमी की जोड़ी उनकी गैरमौजूदगी में भी पूरी तरह से सक्षम है.

वेस्टइंडीज के खिलाफ अंतिम एकादश में रवींद्र जडेजा के रूप में एकमात्र स्पिनर को टीम में जगह मिली थी और अब रविचंद्रन अश्विन के साथ उनकी स्पिन की जोड़ी बनी है.

कुछ नए खिलाड़ियों के साथ आई है अफ्रीकी टीम

दक्षिण अफ्रीका की टीम भारत दौरे पर कुछ नए खिलाड़ियों को साथ आई है और उसके खिलाफ मेजबान टीम को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. कप्तान फाफ डु प्लेसिस सहित मौजूदा टीम के सिर्फ पांच खिलाड़ी पिछली बार भारत दौरे पर आई टीम का हिस्सा थे, जिसे तब टेस्ट सीरीज में 0-3 से हार का सामना करना पड़ा था.


दक्षिण अफ्रीका को काफी लोग सीरीज में जीत का दावेदार नहीं मान रहे, विशेषकर अगर गेंद टर्न लेने लगे तब. एडन मार्करम और टेंबा बावूमा ने अभ्यास मैच में उम्दा पारियां खेलीं और इससे मैच से पूर्व उनका आत्मविश्वास बढ़ा होगा.

बादल छाए रहे, तो टीम इंडिया को होगा नुकसान

कैगिसो रबााडा, वर्नोन फिलेंडर और लुंगी नगिदी की तेज गेंदबाजी तिकड़ी भारतीय बल्लेबाजों को परेशान कर सकती है, विशेषकर मैच के पांचों दिन बादल छाए रहने और बारिश की भविष्यवाणी के कारण. और उसे दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाजी आक्रमण से बचना होगा.

प्लेइंग इलेवन

टीम इंडिया: विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे (उपकप्तान), रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल, चेतेश्वर पुजारा, हनुमा विहारी, आर. अश्विन, रवींद्र जडेजा, ऋद्धिमान साहा (विकेटकीपर), ईशांत शर्मा, मो. शमी.

दक्षिण अफ्रीका: एडेन मार्करम, डीन एल्गर, थ्यूनिस डी ब्रुइन, टेम्बा बावूमा, फाफ डु प्लेसिस (कप्तान), क्विंटन डि कॉक (विकेटकीपर), वर्नोन फिलेंडर, सेनुरन मुथुसामी, केशव महाराज, डेन पीट, कैगिसो रबाडा