ALL देश दुनिया खेल मनोरंजन व्यापार/मनी धर्म/ राशि जीवन संवाद तकनीक करियर लाइव टीवी
Pawan Kumar Chamling Biography in Hindi
November 8, 2019 • Damodar Singh

22 सितंबर 1950 को दक्षिण सिक्किम के यांगांग में श्री आश बहादुर और श्रीमती आशा रानी चामलिंग के यहाँ जन्में, पवन कुमार चामलिंग मैट्रिक पास और काफी हद तक स्वयं-शिक्षित हैं। पवन कुमार चामलिंग ने मणिपाल विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्राप्त की है। पवन कुमार एक प्रसिद्ध कवि भी हैं और उन्हें उनके कार्यों और राज्य के नेतृत्व के लिए कई पुरस्कार भी प्रदान किए गए हैं। राष्ट्रीय एकीकरण के लिए भारत शिरोमणि, सामाजिक कार्य के लिए मानव सेवा पुरुस्कार और कविताओं के लिए भानू पुरुस्कार के अलावा, उन्हें भारत में सिक्किम को हरित राज्य बनाने के प्रयास के लिए विज्ञान और पर्यावरण केंद्र द्वारा भी सम्मानित किया गया है। सिक्किम ने खेतों में प्रयोग किए जाने वाले सभी रसायनों और उर्वरकों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

पवन कुमार चामलिंग ने वर्ष 1977 में एक साहित्यिक पत्रिका निर्मन का संपादन और प्रकाशन किया। पवन कुमार चामलिंग सिक्किम के विकलांग व्यक्तियों के कल्याण मिशन के अध्यक्ष भी हैं।

पवन कुमार चामलिंग ने माया चामलिंग से शादी की है।
पवन कुमार चामलिंग को गरीब ग्रामीणों के कल्याण के लिए मुख्यमंत्री के रूप में प्रतिबद्ध किया गया। अपने लोकप्रिय प्रयासों के अलावा, पवन कुमार चामलिंग ने परिवार नियोजन को प्रोत्साहित किया और महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत नौकरियाँ आरक्षित की और कॉलेज स्तर तक राज्य में नि: शुल्क शिक्षा प्रदान की।

पवन कुमार चामलिंग ने युवाओं की गरीबी और बेरोजगारी से निपटने के लिए लिए प्रसिद्ध स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ कैपसिबिलिटी बिल्डिंग (एसआईसीबी) और युवा सशक्तिकरण योजना पर विचार किया है।

राजनीतिक कैरियर

पवन कुमार चामलिंग ने एक किसान के रूप में अपने कैरियर की शुरुआत की, और फिर एक कान्ट्रेक्टर (ठेकेदार) बन गए। पवन कुमार चामलिंग वर्ष 1973 में राजनीति में शामिल हुए और यांगांग ग्राम पंचायत के अध्यक्ष चुने गए। बाद में पवन कुमार चामलिंग को वर्ष 1985 में सिक्किम विधानसभा के लिए चुना गया। वह तब सिक्किम में कांग्रेस प्रजातंत्र का एक हिस्सा थे। वर्ष 1989 में पवन कुमार चामलिंग को दमथांग से चौथी विधानसभा के लिए चुना गया और वह सिक्किम संग्राम परिषद के मुख्यमंत्री नार बहादुर भंडारी के राज्य सरकार के मंत्रिमंडल में शामिल किए गए। पवन कुमार चामलिंग वर्ष 1989 से वर्ष 1992 तक उद्योग, सूचना और जनसंपर्क मंत्री रहे थे।

डॉ. चामलिंग ने 4 मार्च 1993 को सिक्किम डेमोक्रेटिक पार्टी का गठन किया और सर्वसम्मति से वह उसके अध्यक्ष चुने गए। वर्ष 1994 में राज्य विधानसभा के चुनाव में उनकी पार्टी विजयी हुई और डॉ. पवन कुमार चामलिंग को मुख्यमंत्री बनाया गया।

एक पार्टी जिसकी पवन कुमार चामलिंग ने वर्ष 1993 में स्थापना की थी, वह सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट से संबंधित है।
पवन कुमार चामलिंग ने वर्ष 2009 में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करके, लगातार चार बार मुख्यमंत्री का पदभार संभालने में सफल हुए थे।

पवन कुमार चामलिंग को गरीब ग्रामीणों के कल्याण के लिए मुख्यमंत्री के रूप में प्रतिबद्ध किया गया। अपने लोकप्रिय प्रयासों के अलावा, पवन कुमार चामलिंग ने परिवार नियोजन को प्रोत्साहित किया और महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत नौकरियाँ आरक्षित की और कॉलेज स्तर तक राज्य में नि: शुल्क शिक्षा प्रदान की।

सिक्किम के पवन कुमार चामलिंग ने भारतीय इतिहास में सबसे अधिक समय तक मुख्यमंत्री बने रहने का रिकॉर्ड बना लिया है। उन्होंने ज्योति बसु का लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहने का रिकॉर्ड तोड़ा है। पश्चिम बंगाल में सीपीएम की 34 साल की सरकार में ज्योति बसु 23 साल 137 दिन तक मुख्यमंत्री रहे। बसु 21 जून, 1977 से पांच नवंबर 2000 तक बंगाल के मुख्यमंत्री रहे। इस दौरान उन्होंने कुल 8,358 दिन राज किया। वहीं पीके चामलिंग 12 दिसंबर, 1994 में सिक्किम के मुख्यमंत्री बने, जो आज तक राज्य के मुख्यमंत्री बने हुए हैं। इतने सालों तक सिक्किम का मुख्यमंत्री बने रहने का श्रेय अपने माता-पिता को देते हुए चामलिंग कहते हैं, 'इसका श्रेय में राज्य की जनता को भी देना चाहूंगा, क्योंकि उन्होंने मुझपर विश्वास किया। मेरा समर्थन किया। उन्हीं की दुआओं की वजह से मैं इतने सालों तक राज्य का प्रतिनिधित्व कर पाया हूं।' चामलिंग के इस रिकॉर्ड पर सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट के प्रवक्ता कहते हैं कि मुख्यमंत्री के मामले में उनके नेता ऐसा रिकॉर्ड स्थापित करेंगे जिसे तोड़ पाना बहुत मुश्किल होगा। प्रवक्ता आगे कहते हैं कि 67 साल के चामलिंग का कार्यकाल पूरा होने में अभी एक साल का समय और बचा है। अभी भी बहुत से लोगों का मानना है कि राज्य में अगले साल होने वाले चुनाव में चामलिंग अन्य उम्मीदवारों के मुकाबले राज्य का प्रतिनिधित्व करने के लिए काफी मजबूत दावेदार होंगे।