ALL देश दुनिया खेल मनोरंजन व्यापार/मनी धर्म/ राशि जीवन संवाद तकनीक करियर लाइव टीवी
Dharmendra Pradhan Biography in Hindi
November 8, 2019 • Damodar Singh

(जन्म: २६ जून १९६९ ) भारतीय जनता पार्टी के नेता तथा भारत के वरिष्ठ सदन राज्यसभा के सदस्य हैं। वे पेट्रोलियम तथा प्राकृतिक गैस के राज्य मंत्री (स्वतन्त्र प्रभार) हैं। वे वर्ष २०१२ में बिहार से रज्यसभा के लिये चुने गये थे। वे चौदहवीं लोकसभा में ओड़ीसा के देवगढ़ से सांसद चुने गये थे। वे ओड़ीसा की १२वीं विधान सभा के भी सदस्य थे (२०००-२००४)। वे डॉ धर्मेन्द्र प्रधान के पुत्र हैं जो भाजपा के भूतपूर्व सांसद थे।

तीन सितंबर भाषा उज्जवला योजना के जरिये गरीब परिवारों को रसोई गैस उपलब्ध कराने की मोदी सरकार की योजना को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले धर्मेन्द्र प्रधान को आज कैबिनेट मंत्री बनाया गया । प्रधान ने भाजपा से जुड़े छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से राजनीतिक जीवन में कदम रखा था और ओडिशा में विधायक बनने से लेकर कैबिनेट मंत्री बनने तक का सफर तय किया ।

प्रधान 80 के दशक की शुरूआत में एबीवीपी के सक्रिय सदस्य थे और अपने कॉलेज के छात्र संघ अध्यक्ष भी रहे। वह इस संगठन में सचिव और राष्ट्रीय सचिव की भूमिका अदा कर चुके हैं। छात्र राजनीति करते हुए भाजपा में आये प्रधान को पार्टी ने भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी।

मूल रूप से ओडिशा से ताल्लुक रखने वाले प्रधान संसद के उच्च सदन में भी इसी प्रदेश का प्रतिनिधित्व करते हैं और उन्हें राज्य में पार्टी का प्रमुख चेहरा माना जाता है।

48 साल के प्रधान को 2004 में त्र्ािपुरा का और 2008 में छाीसगढ़ का प्रभारी बनाया गया था।

पेट्रोलियम मंत्री के रूप में उनके कामकाज से प्रसन्न होकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें कैबिनेट मंत्री की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है।

उन्हें प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी उज्ज्वला योजना के तहत गरीबों को एलपीजी कनेक्शन देने और आम लोगों को एलपीजी की सब्सिडी छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करने के लिहाज से चलाई गयी गिव इट अप योजना को सफलतापूर्वक संचालित करने का श्रेय भी दिया जाता है।

उनके पिता देबेंद्र प्रधान अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे थे और ओडिशा की देवगढ़ लोकसभा से सांसद रहे।

प्रधान भी इसी सीट से 2004 में 14वीं लोकसभा में चुनकर आये थे। 2009 के चुनाव में वह हार गये। इससे पहले 2002 से 2004 तक वह ओडिशा विधानसभा के भी सदस्य रहे।