Harsh Vardhan Biography in Hindi
November 8, 2019 • Damodar Singh

डॉ हर्षवर्धन एक भारतीय राजनेता हैं। वह दिल्‍ली में भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेताओं में से एक हैं। वर्तमान में वह भारत सरकार में विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री हैं। वह 16 वीं लोकसभा में संसद सदस्य के रूप में दिल्ली के चांदनी चौक का प्रतिनिधित्व करते हैं। लोकसभा से पहले वे दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से दिल्ली मुख्यमंत्री उम्मीदवार के रूप में चुने जा चुके हैं। वह पहली बार कृष्णा नगर विधान सभा से दिल्ली विधान सभा के सदस्य के रूप में चुने गए थे।

डॉ हर्षवर्धन का जन्म दिल्ली में 13 दिसंबर 1954 को हुआ था। उन्होंने उत्तर भारत के सबसे पुराने संस्थानों में से एक, दिल्ली के दारागंज में एंग्लो-संस्कृत विक्टोरिया जुबली सीनियर सेकेंडरी स्कूल से अपनी स्कूली शिक्षा की है। उन्होंने 1979 से लेकर 1983 तक कानपुर के जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज, ईएनटी में एमबीबीएस और एमएस किया और ईएनटी सर्जन के रूप में अभ्यास करने के लिए दिल्ली लौट आए। उन्होंने 26 फरवरी 1982 को उन्होंने नूतन से विवाह किया। उनके दो बेटे और एक बेटी हैं। डॉ हर्षवर्धन बचपन से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यकर्ता रहे हैं, जिसने धीरे-धीरे उन्हें राजनीति की तरफ मोड़ दिया।

इन्होंने एंग्लो संस्कृत विक्टोरिया जुबली सीनियर सेकेण्डरी स्कूल, दरियागंज से अपनी स्कूली शिक्षा प्राप्त की। गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज, कानपुर, से इन्होंने आयुर्विज्ञान तथा शल्य-चिकित्सा स्नातक की डिग्री प्राप्त की तथा इसी कॉलेज से ओटोलर्यनोलोजी में शल्यविज्ञान निष्णात अर्जित की।

राजनीतिक जीवन
हर्षवर्धन बचपन से ही दक्षिणपन्थी हिन्दू राष्ट्रवादी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य रहे हैं। ये भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर 1993 में कृष्णा नगर विधानसभा क्षेत्र से चुने गये थे और दिल्ली की पहली विधानसभा के सदस्य बने। इन्हें दिल्ली की सरकार में कानून और स्वास्थ्य मन्त्री नियुक्त किया गया। 1996 में ये शिक्षा मन्त्री बने। राज्य के स्वास्थ्य मंत्रालय में अपने समय के दौरान इन्होंने अक्टूबर 1994 में पोलियो उन्मूलन योजना का शुभारम्भ किया। कार्यक्रम सफल रहा और फ़िर इसे भारत सरकार द्वारा पूरे देश भर में अपनाया गया।

हर्षवर्धन 1998 और 2003 में फिर से कृष्णा नगर से विधानसभा के लिए चुने गये। 2008 विधानसभा चुनाव में अपनी मुख्य प्रतिद्वन्द्वी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पार्षद दीपिका खुल्लर को 3,204 मतों द्वारा हराने के साथ ही इन्होंने विधानसभा की चौथी बार सदस्यता प्राप्त की। इस प्रकार हर्षवर्धन विधानसभा चुनाव इतिहास में कभी भी पराजित नहीं हुए। इन्हें अपनी पार्टी का एक अनुभवी और सम्मानित सदस्य माना जाता है।

चुनाव से सवा महीने पूर्व 23 अक्टूबर 2013 को उन्हें दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिये राज्य के मुख्यमन्त्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया।2013 के दिल्ली राज्य विधानसभा चुनाव में उनके नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने कुल 66 सीटों पर अपने प्रत्याशी चुनाव में उतारे जिनमें से 31 विजयी हुए। पिछले चुनाव के मुकाबले भाजपा ने वोटों का प्रतिशत कम रहने के बावजूद 8 सीटें अधिक जीतीं। त्रिकोणीय मुकाबले में उनकी पार्टी पहले स्थान पर रही जबकि उन्होंने स्वयं कृष्णा नगर विधान सभा सीट भारी अन्तर से जीती।

व्यक्तिगत जीवन
हर्षवर्धन की पत्नी का नाम नूतन हैं और उन दोनों के तीन बच्चे हैं – दो लड़के मयंकभरत और सचिन तथा एक लड़की इनाक्षी। हर्षवर्धन दिल्ली के कृष्णा नगर स्थित अपने पैतृक घर में परिवार सहित रहते हैं।

डॉ॰ हर्षवर्धन भारतीय राजनेता हैं जो भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्य हैं। ये कृष्णा नगर विधानसभा क्षेत्र से दिल्ली विधानसभा के सदस्य रहे हैं। डॉ. हर्ष वर्धन वर्तमान में दिल्ली के चांदनी चौक लोकसभा क्षेत्र से सांसद हैं और केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पृथ्वी विज्ञान मंत्री हैं। इनके नेतृत्व में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में तमाम उपलब्धियां हासिल की हैं। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री के तौर पर इन्होंने पर्यावरण की रक्षा के लिए एक बड़े नागिरक अभियान 'ग्रीन गुड डीड्स' की शुरुआत की है। इस अभियान को ब्रिक्स देशों ने अपने आधिकारिक प्रस्ताव में शामिल किया है।

डॉ हर्षवर्धन पेशे से नाक, कान और गले के रोगों के चिकित्सक हैं। दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की सरकार (1993-1998) के दौरान इन्होंने स्वास्थ्य मन्त्री, कानून मन्त्री और शिक्षा मन्त्री सहित राज्य मन्त्रिमण्डल में विभिन्न पदों पर कार्य किया। हर्षवर्धन दिल्ली विधानसभा चुनाव के इतिहास में कभी नहीं हारे हैं।