ALL देश दुनिया खेल मनोरंजन व्यापार/मनी धर्म/ राशि जीवन संवाद तकनीक करियर लाइव टीवी
Petrol-Diesel Price: पेट्रोल-डीजल के कीमतों में आई बड़ी गिरावट, फटाफट जानें नए रेट्स
January 28, 2020 • Damodar Singh • व्यापार/मनी

नई दिल्ली. अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमतों में गिरावट जारी है. कच्चे तेल की कीमतों में नरमी का असर घरेलू बाजार पर देखने को मिल रहा है. देश में लगातार के दाम घट रहे हैं. मंगलवार को भी पेट्रोल और डीजल के दाम में बड़ी गिरावट आई है. तेल कंपनियों ने मंगलवार को पेट्रोल के भाव में 11-12 पैसे की कटौती की है जबकि डीजल 13-14 पैसे प्रति लीटर सस्ता हुआ है. इस कटौती के बाद दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के लिए 73.60 रुपये चुकाने होंगे. वहीं एक लीटर डीजल के लिए 66.58 रुपये खर्च करने होंगे.


चार महानगरों में पेट्रोल-डीजल का भव
इंडियन ऑयल की वेबसाइट के मुताबिक दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में पेट्रोल की कीमतें क्रमश: 73.60 रुपये, 79.21 रुपये, 76.22 रुपये और 76.44 रुपये प्रति लीटर रहीं. दूसरी ओर चारों महानगरों में डीजल का भाव क्रमश: 66.58 रुपये, 69.79 रुपये, 68.94 रुपये और 70.33 रुपये प्रति लीटर के भाव पर मिल रहा है.

3 महीने के निचले स्तर पर कच्चा तेल
चीन में घातक कोरोनावायस (Coronavirus) के चलते मांग घटने से कच्चे तेल की कीमतें गिरी हैं. सोमवार को कच्चे तेल का भाव 3 महीने के निचले स्तर पर लुढ़क गया. कोरोनावायरस के प्रकोप के चलते आने वाले दिनों में पेट्रोल-डीजल के दाम में और गिरावट दर्ज की जा सकती है. मांग में कमी की आशंका के चलते कच्चे तेल की कीमतों में भी जबरदस्त गिरावट दर्ज की जा रही है. अंतर्राष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड 0.30 फीसदी लुढ़ककर 59.14 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर आ गया.

होते हैं पेट्रोल-डीज़ल के दाम
>> जिस प्राइस पर हम पेट्रोल पंप से पेट्रोल खरीदते हैं उसका करीब 48 फीसदी बेस प्राइस यानी आधार मूल्य होता है. इसके बाद बेस मूल्य पर करीब 35 फीसदी एक्साइज ड्यूटी, 15 फीसदी सेल्स टैक्स और दो फीसदी कस्टम ड्यूटी लगाई जाती है.  तेल के बेस प्राइस में कच्चे तेल की कीमत (क्रूड), प्रोसेसिंग चार्ज और कच्चे तेल को रीफाइन करने वाली रिफाइनरियों का चार्ज शामिल होता हैं.
>> अब तक फ्यूल प्राइस को GST में शामिल नहीं किया गया है. इस वजह से इस पर एक्साइज ड्यूटी भी लगती है और वैट भी. केंद्र सरकार पेट्रोल की बिक्री पर एक्साइज ड्यूटी वसूलती है, जबकि राज्य सरकारें वैट वसूलती हैं.