ALL देश दुनिया खेल मनोरंजन व्यापार/मनी धर्म/ राशि जीवन संवाद तकनीक करियर लाइव टीवी
Raghubar Das Biography in Hindi
November 8, 2019 • Damodar Singh

नाम :- श्री रघुबर दास
पिता :- स्व. चवन राम
माता :- स्व. सोनवती देवी
पत्नी :- श्रीमति रूकमनी देबी
जन्म तिथि :- 03 May 1955
शैक्षणिक योग्यता :- B.Sc, LLB
चुनाव क्षेत्र :- जमशेदपुर पूर्व
पार्टी :- भारतीय जनता पार्टी (BJP)

रघुवर दास का जन्म 3 मई 1955 को जमशेदपुर में हुआ था, उनके पिता का नाम स्व॰ चमन राम है। रघुवर दास ने अपना बचपन बहुत मुश्किलो में गुजारा है ,जिसकी वजह से उन्होने जमशेदपुर की टाटा स्टील रोलिंग मिल में मजदूर के रुप में अपना सफर शुरु किया। उनकी प्रारम्भिक शिक्षा भालूबासा हरिजन विद्यालय में हुई। यहीं से मैट्रिक की परीक्षा पास की। इसके बाद जमशेदपुर को-ऑपरेटिव कॉलेज से बीएससी और विधि स्नातक की परीक्षा पास की। रघुवर दास के परिवार में उनकी पत्नी, एक पुत्र और एक पुत्री हैं, हालांकि उनकी पुत्री की शादी हो चुकी है।

रघुवर दास का अपना बचपन बहुत अभावों में गुजारा, जिसकी वजह से उन्होंने जमशेदपुर की टाटा स्टील रोलिंग मिल में मजदूर के रूप में अपना सफर शुरु किया। टाटा स्टील के कर्मचारी से झारखंड के नये मुख्यमंत्री बनने तक का रघुवर दास का सियासी सफर बेहद दिलचस्प रहा है। रघुवर दास झारखंड के पहले गैर आदिवासी मुख्यमंत्री हैं। रघुवर दास पहली बार 1995 में भाजपा की टिकट पर जमशेदपुर (पूर्व) से चुनाव लड़े और जीत दर्ज की। चार बार विधायक रह चुके रघुवर दास 30 दिसंबर, 2009 से 29 मई, 2010 तक झारखंड के उपमुख्यमंत्री रह चुके हैं। एनडीए की पूर्व सरकार में इन्हें मंत्री पद भी दिया गया था। रघुवर दास को अमित शाह की टीम का हिस्सा माना जाता है।

बतौर भाजपा संगठनकर्ता वे कई प्रदेशों में भाजपा की जीत में अहम भूमिका निभा चुके हैं। रघुवर दास भाजपा के कद्दावर नेताओं में जरूर गिने जाते हैं, लेकिन उनका आरएसएस या अन्य सहयोगी संगठनों से कोई सीधा संबंध नहीं है। रघुवर दास 1974 के छात्र आंदोलन के समय समाजवादी छात्र संगठनों के संपर्क में रहे। उसके बाद भाजपा का दामन थामने के बाद पार्टी ने उन्हें कई जिम्मेदारियां दीं, जिसको उन्होंने बखूबी निभाया। उन्होंने 2014 के चुनावों में 'जमशेदपुर पूर्व' सीट से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा तथा वे भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के उम्मीदवार आनन्द बिहारी दुबे को 70157 वोटों के अंतर से हराकर निर्वाचित हुए और झारखंड के छठवें मुख्यमंत्री नियुक्त किये हुए।

मुख्यमंत्री पद के लिए चुने जाने के बाद उन्होंने पार्टी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह बीजेपी में ही संभव है कि एक मजदूर का मजदूर बेटा इसी पार्टी में मुख्यमंत्री, राष्ट्रपति अथवा प्रधानमंत्री बन सकने की कल्पना कर सकता है।

1980 में बीजेपी की स्थापना के साथ ही वह सक्रिय राजनीति में आए।उन्होंने वर्ष 1995 में पहली बार जमशेदपुर पूर्व से विधानसभा का चुनाव लड़ा और विधायक बने। तब से लगातार पांचवीं बार उन्होंने इसी क्षेत्र से विधानसभा चुनाव जीता है। तत्कालीन बिहार के जमशेदपुर पूर्व से वर्ष 1995 में उनका टिकट बीजेपी के प्रसिद्ध विचारक गोविंदाचार्य ने तय किया था। दास पंद्रह नवंबर, 2000 से 17 मार्च, 2003 तक राज्य के श्रम मंत्री रहे, फिर मार्च 2003 से 14 जुलाई, 2004 तक वह भवन निर्माण और 12 मार्च 2005 से 14 सितंबर, 2006 तक झारखंड के वित्त, वाणिज्य और नगर विकास मंत्री रहे।

राजनीतिक सफर
रघुवर दास झारखंड के पहले गैर आदिवासी मुख्यमंत्री हैं। 59-वर्षीय रघुवर दास वर्ष 1977 में जनता पार्टी के सदस्य बने। वर्ष 1980 में बीजेपी की स्थापना के साथ ही वह सक्रिय राजनीति में आए।उन्होंने वर्ष 1995 में पहली बार जमशेदपुर पूर्व से विधानसभा का चुनाव लड़ा और विधायक बने। तब से लगातार पांचवीं बार उन्होंने इसी क्षेत्र से विधानसभा चुनाव जीता है। तत्कालीन बिहार के जमशेदपुर पूर्व से वर्ष 1995 में उनका टिकट बीजेपी के प्रसिद्ध विचारक गोविंदाचार्य ने तय किया था। दास पंद्रह नवंबर, 2000 से 17 मार्च, 2003 तक राज्य के श्रम मंत्री रहे, फिर मार्च 2003 से 14 जुलाई, 2004 तक वह भवन निर्माण और 12 मार्च 2005 से 14 सितंबर, 2006 तक झारखंड के वित्त, वाणिज्य और नगर विकास मंत्री रहे। इसके अलावा दास 2009 से 30 मई, 2010 तक झारखंड मुक्ति मोर्चा के साथ बनी बीजेपी की गठबंधन सरकार में उपमुख्यमंत्री, वित्त, वाणिज्य, कर, ऊर्जा, नगर विकास, आवास और संसदीय कार्य मंत्री भी रहे।

रघुवर दास पर कई विवादों के आरोप भी लगे हैं। जनवरी 2010 में रघुवर दास एक प्राइवेट कंपनी को पुरस्कार अच्छे कार्य करने के लिए पुरस्कार देने के चलते विवाद में रहे। बात 2004-2005 की है जब दास झारखंड की मुंडा सरकार के अंतर्गत शहरी विकास मंत्री थे।