ALL देश दुनिया खेल मनोरंजन व्यापार/मनी धर्म/ राशि जीवन संवाद तकनीक करियर लाइव टीवी
सीएम योगी आदित्यनाथ की दिल्ली विधानसभा चुनाव में जोरदार मांग, आज करेंगे चार चुनावी रैली
February 3, 2020 • Damodar Singh • देश

लखनऊ, । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृह मंत्री अमित शाह के साथ भारतीय जनता पार्टी के स्टार प्रचारकों में शामिल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की दिल्ली विधानसभा चुनाव में भी काफी मांग है। बीते दो दिन से दिल्ली में ही डेरा डाले योगी आदित्यनाथ सोमवार को चार चुनावी सभा को संबोधित करेंगे।

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ की दिल्ली विधानसभा चुनाव में डिमांड काफी बढ़ गई है। जोशीले भाषणों से मतदाताओं को रिझाने में माहिर योगी आदित्यनाथ की आज दिल्ली में चार चुनावी सभा है। दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर प्रचार कार्य निर्णायक दौर में पहुंच चुका है। दिल्ली विधानसभा चुनाव के प्रचार में सीएम योगी आदित्यनाथ की भी काफी मांग हो रही है। शनिवार को प्रचार करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ आज यानी सोमवार को दिल्ली में चुनावी प्रचार मैदान में उतरेंगे। उनकी आज चार चुनावी सभा है। सीएम योगी आदित्यनाथ आज विकासपुरी, उत्तम नगर, द्वारका व महरौली में जनसभा संबोधित करेंगे। माना जा रहा है कि हिंदुत्व का चेहरा माने जाने वाले देश के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रैलियों से भाजपा के लिए माहौल बनेगा।

सीएम योगी आदित्यनाथ शाहीन बाग से लेकर तुगलकाबाद और चांद बाग, मुस्तफाबाद और श्रीराम कॉलोनी समेत मौलवी नगर के इलाके में चुनावी सभा और भाजपा के प्रत्याशियों का प्रचार करेंगे। पार्टी का मानना है कि सीएम योगी आदित्यनाथ के प्रचार से पार्टी को वहां बड़ा फायदा पहुंच सकता है। इसके साथ ही दिल्ली सीएम के प्रबल दावेदार मनोज तिवारी का उत्तर प्रदेश और पूर्वांचल से गहरा नाता है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कल देर शाम दिल्ली के बदरपुर में भाजपा की चुनावी सभा में पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि दिल्ली में बैठे केजरीवाल शाहीनबाग की घटना को बढ़ावा देने का कुत्सित प्रयास कर रहे हैं। धारा 370 कश्मीर में खत्म होती है लेकिन पीड़ा पाकिस्तान को और केजरीवाल को होती है। उन्होंने कहा कि 370 का राहुल गांधी और केजरीवाल ने विरोध किया। 370 देश के अलगाववाद का कारण बना। आजादी के बाद कोई सरकार नहीं हटा पाई, लेकिन प्रधानमंत्री के कदम का समर्थन करने के बजाए केजरीवाल विरोध करते हैं। पांच वर्ष में अरविंद केजरीवाल शुद्ध पानी नहीं दे पाए लेकिन मधुशाला जरूर खोल दी।